प्राकृतिक चिकित्सा क्या है ?

प्राकृतिक चिकित्सा वस्तुतः तत्व चिकित्सा है जिसका शाब्दिक अर्थ है षटतत्वों द्वारा आपको  त्रितापों अधिदैविक, अधिभौतिक तथा आध्यात्मिक, जिन  में शारीरिक रोग शामिल हैं, की चिकित्सा अर्थात मह तत्व, आकाश तत्व, वायु…

Continue Reading प्राकृतिक चिकित्सा क्या है ?

आचार रसायन

पुरुष जिस शास्त्र से रसायनआयुष्य के विषय में ज्ञान प्राप्त करता है ,ऋषियों ने उसे ही आयुर्वेद कहा है |  अनेन पुरुषो यस्मादायुर्विन्द्ती वेत्ति च | तस्मानमुनिवरैरेष आयुर्वेद इति स्मृतः…

Continue Reading आचार रसायन

आयुर्वेद का अनादित्व

आयुर्वेद अथर्ववेद का उपवेद है| श्रृष्टि के प्रारंभ में ही प्रजापति ब्रह्मा जी ने लक्षात्मक श्लोकं में लोकोपकार के लिए इसकी रचना की थी , ग्रन्थ में एक हजार अध्याय…

Continue Reading आयुर्वेद का अनादित्व

स्वस्थ रहने के उपाय

--स्वस्थ्य रहने के लिए सूर्योदय से पूर्व उठ जाना चाहिए | इससे शरीर निरोग रहता है और बुद्धि विकसित होती है | जागने के उपरांत त्वरित ही बिस्तर से नहीं…

Continue Reading स्वस्थ रहने के उपाय

स्वस्थ्य जीवन के लिए ऋतूचर्या का ज्ञान

रोग की चिकित्सा करने की अपेक्षा रोग को ना होने देना ही अदिक श्रेष्ठ है और यह कहने की आवश्यकता नहीं की ऋतू चर्या या दिनचर्या या रात्रि चर्या के…

Continue Reading स्वस्थ्य जीवन के लिए ऋतूचर्या का ज्ञान

मानसिक स्वस्थ्य और सदाचार

से ही अनेकोअनेक प्राकर के रोग उत्पन्न करते हैं | असत्य  -- असत्य बोलने वाले व्यक्ति की जीवनशक्ति नस्ट हो जाती है और वह सामान्य रोगों का भी भोगी बन…

Continue Reading मानसिक स्वस्थ्य और सदाचार

हस्त मुद्रा चिकित्सा

मानव शरीर अत्यंत रहस्यों से भरा हुआ है | शरीर की अपनी एक मुद्रमायी भाषा है जिसके करने से शारीरिक स्वस्थ्य लाभ में सहयोग प्राप्त होता है | यह शरीर…

Continue Reading हस्त मुद्रा चिकित्सा

जल चिकित्सा के उपयोग

सामान्यत: हमारे शरीर में ५५ % से ७५% जल होता है | अत: जल का महत्व स्वस्थ्य की दृष्टी से बहुत अधिक है – गरम ठंडा सेंक – सभी तरह के दर्द…

Continue Reading जल चिकित्सा के उपयोग

प्राकृतिक चिकित्सा

प्राकृतिक चिकित्सा प्राकृतिक चिकित्सा में पञ्च महाभूत – पृथिवी , जल , तेज , वायु एवं आकाश के द्वारा चिकित्सा की जाती है | बिना औषधि के मिटटी, पानी ,हवा ,…

Continue Reading प्राकृतिक चिकित्सा

स्वस्थ्य क्या है ?

स्व का अर्थ है आत्मा | आत्मा शब्द देह, इन्द्रिय ,प्राण ,मन , जीवात्मा और परमात्मा—इन सबके लिए प्रयुक्त होता है | जब हम किसी व्याधि से ग्रस्त रहते हैं…

Continue Reading स्वस्थ्य क्या है ?