आयुर्वेद मित्र

सर्वे भवन्तु सुखिनःसर्वे सन्तु निरामयाः | सर्वे भद्राणि पश्यन्तु माँ कश्चिदˎदुःखभागभवेतˎ ||

Click here to watch our video

Cetegories

आयुर्वेद

घरेलू उपचार

प्राकृतिक उपचार

रोग एवं उपचार

प्रेरणादायक कहानियाँ

Featured Post

आचार रसायन

आचार रसायन

पुरुष जिस शास्त्र से रसायनआयुष्य के विषय में ज्ञान प्राप्त करता है ,ऋषियों ने उसे ही आयुर्वेद कहा है |  अनेन पुरुषो यस्मादायुर्विन्द्ती वेत्ति च | तस्मानमुनिवरैरेष आयुर्वेद इति स्मृतः || आयुर्वेद के अतिरिक्त विश्व क्व किसी भी अन्य चिकित्साशास्त्र

आयुर्वेद का अनादित्व

आयुर्वेद का अनादित्व

आयुर्वेद अथर्ववेद का उपवेद है| श्रृष्टि के प्रारंभ में ही प्रजापति ब्रह्मा जी ने लक्षात्मक श्लोकं में लोकोपकार के लिए इसकी रचना की थी , ग्रन्थ में एक हजार अध्याय थे | इह खलु आयुर्वेदो नाम यदुपांगमथर्ववेदस्यानुतपाद्देव प्रजाः’’’’’’’’’’श्लोक शत सहस्त्रम्ध्यय्सहस्त्रम

स्वस्थ रहने के उपाय

स्वस्थ रहने के उपाय

–स्वस्थ्य रहने के लिए सूर्योदय से पूर्व उठ जाना चाहिए | इससे शरीर निरोग रहता है और बुद्धि विकसित होती है | जागने के उपरांत त्वरित ही बिस्तर से नहीं उठ जाना चाहिए | –शांति से सुस्ती दूर करें और

स्वस्थ्य जीवन के लिए ऋतूचर्या का ज्ञान

स्वस्थ्य जीवन के लिए ऋतूचर्या का ज्ञान

रोग की चिकित्सा करने की अपेक्षा रोग को ना होने देना ही अदिक श्रेष्ठ है और यह कहने की आवश्यकता नहीं की ऋतू चर्या या दिनचर्या या रात्रि चर्या के सम्यक परिपालन इ रोग का निश्यय ही प्रतिरोध होता है